नेपाल के गांव पर तीन साल से चीन का कब्जा ओली सरकार की साधी चुप्पी

नेपाल के रुई गांव पर पिछले तीन साल से चीन ने कब्‍जा कर रखा है। पिछले कुछ समय से एक के बाद एक भारत विरोधी कदम उठा रही नेपाल की केपी शर्मा ओली सरकार ने ड्रैगन की इस नापाक हरकत पर चुप्‍पी साध रखी है। भारत के खिलाफ अक्‍सर बयानबाजी करने वाली नेपाली कम्‍युनिस्‍ट पार्टी ने भी इस पूरे मामले पर मौनव्रत धारण कर लिया है। 60 साल तक नेपाल सरकार के अधीन रहने वाले रुई गांव के गोरखा अब चीन के दमनकारी शासन के अधीन हो गए हैं। नेपाली अखबार अन्‍नपूर्णा पोस्‍ट के मुताबिक रुई गांव वर्ष 2017 से तिब्‍बत के स्‍वायत्‍त क्षेत्र का हिस्‍सा हो गया है। इस गांव में अभी 72 घर हैं। रुई गांव अभी भी नेपाल के मानचित्र में शामिल है, लेकिन वहां पर पूरी तरह से चीन का नियंत्रण हो गया है। रुई गांव के सीमा स्तंभों को अतिक्रमण को वैध बनाने के लिए हटा दिया गया है।

नेपाल के भू-राजस्व कार्यालय गोरखा के अनुसार, उनके पास अभी भी रुई गांव के निवासियों से एकत्र राजस्व का रेकॉर्ड है। रुई गांव के निवासियों की ओर से दिए गए राजस्‍व का विवरण भूमि राजस्व कार्यालय में सुरक्षित है। कार्यालय के एक सहायक कर्मचारी ने कहा, ‘कार्यालय के रेकॉर्ड अनुभाग में अथारा साया खोले से रुई तक के लोगों के राजस्व का रेकॉर्ड हैं।’

नेपाली इतिहासकार रमेश धुंगल का कहना है कि वर्ष 2017 तक रुई और तेइगा गांव देश के गोरखा जिले के उत्तरी भाग में थे। उन्‍होंने कहा, ‘रुई गांव नेपाल का हिस्सा है। न तो हमने इसे युद्ध में खोया और न ही यह तिब्बत से संबंधित किसी विशेष समझौते या अनुबंध के अधीन था। नेपाल ने बॉर्डर के पिलर को लगाते समय लापरवाही की जिसके कारण हमने रुई और तेघा दोनों गांव खो दिए।

अध्यक्ष बीर बहादुर लामा दावा करते हैं कि रुई गांव सहित क्षेत्र गोरखा का हिस्सा था और वहां के निवासी नेपाल सरकार को राजस्व जमा करते थे, और अब यह निवासी तिब्बती बन गए हैं। उन्‍होंने कहा कि कुछ भ्रष्ट नेपाली अधिकारियों की सहमति से 35 नंबर पिलर को समदो और रुई गांव के बीच की सीमा तय कर दिया गया। इससे पूरा गांव चीनी नियंत्रण में आ गया। साम गांव, सामडो और रुई की भाषा, संस्कृति और परंपराएं एक जैसी हैं और इन सभी प्रार्थना की जगह भी एक ही है।

नेपाली इतिहासकार धुंगेल ने इसे नेपाल की ओली सरकार की घोर लापरवाही बताया। लामा ने कहा, ‘भारत की सीमा में आना जाना बहुत आसान है। लोग इसके चारों ओर घूमते हैं। इसलिए भारत के साथ सीमा के मुद्दे सभी को दिखाई दे रहे हैं, लेकिन उत्तरी सीमा में तिब्बत की सीमा से लगे इलाके में नेपाल का हाल बहुत ही खराब है।’ चीन के साथ पींगे बढ़ा रही नेपाल सरकार अब इस पूरे मामले को लेकर बुरी तरह से फंसती नजर आ रही है।

About admin 104 Articles
All India News Channel ऐसा न्यूज़ चैनल है जिसकी कोशिश हर ख़बर या घटना की जानकारी पूरी सत्यता के साथ और जल्द से जल्द आप तक पहुँचाने की है ! आज जब न्यूजपेपर और टीवी के लिए समय नहीं है लेकिन मोबाइल के बिना नहीं रह सकते हैं। अपने शहर की खबरें आप तक सबसे पहले और बेहतर तरीके से आपके बीच पहुंचाने के लिए 2020 रिपोर्टर्स की टीम ने All India News Channel ( AINC ) न्यूज पोर्टल शुरू किया। यहां आप 24 घंटे खबरों की अपडेट, क्राइम, हेल्थ, स्पोटर्स, बिजनेस, एजूकेशन, कल्चरल प्रोग्राम सहित सामाजिक सरोकार से जुडी देख सकते हैं, उन्हें पढने के साथ कमेंट भी कर सकते हैं।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*